रविवार, 27 मई 2007

बेहतर है मुझे लौटा देना ख़त मेरे जलाने से पहले.



ग़ज़ल



दिल से भी मिटाओ तो जाने ये नक़्श मिटाने से पहले.
बेहतर मुझे लौटा देना ख़त मेरे जलाने से पहले.

तबियत भी है कुछ उखड़ी उखड़ी मुखड़ा भी है कुछ फीका फीका,
सरकार मेरे क्यों गुमसुम हैं अहवाल सुनाने से पहले.

घर वीरां करके कहते हैं, घर अपना बसा लेना तुम भी
अपना सा समझते हैं सबको ये राय बताने से पहले .

रोओगे कभी चुपके चुपके जब जिक्र हमारा निकलेगा,
आँसू बनकर मैं बरसूँगा सावन के आने से पहले.

इक जगह से बाँधू सौ टूटे हालात भी कितने ज़ालिम हैं,
इक आग नई लग जाती है इक आग बुझाने पहले .



डॉ. सुभाष भदौरिया,अहमदाबाद. India. ता.27-5-07




3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इश्क वो आतिश है गालिब जो लगाए ना लगे और बुझाये ना बने.........
    जनाब किसी टूटे हुए दिल के तार बजा दिए आपने ................. इरशाद ............................

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर रचना...

    हिन्दी चिठ्ठाजगत में आपका हार्दिक स्वागत है...

    http://vijaykumardave.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं