शनिवार, 28 मई 2011

चूजों की हिफ़ाज़त का जिम्मा नागों को अगर दोगे लोगो.







ग़ज़ल.
चूजों की हिफ़ाज़त का जिम्मा नागों को अगर दोगे लोगो.
सामान तबाही का अपने तुम ख़ुद ही कर लोगे लोगो.

रावण चहुँ ओर यहाँ पर हैं सीता का रुदन भी ज़ारी है,
तुम ही हो राम तुम्हीं लक्ष्मन कब उनकी ख़बर लोगे लोगो.

फिरते हो बहुत सहमे सहमे नज़रों को झुकाये रहते हो,
जब ज़ुल्म से आँख मिलाओगे दावा है निख़र लोगे लोगो.

 पश्चिम से उठेंगी फिर लपटें, पूर्व में भी ख़तरा है तुमको,
सरहद से चलेगी जब आँधी पत्तों से बिखर लोगे लोगो.

करते हो किनारों पे मस्ती लहरों का इल्म नहीं तुमको,
पानी जो तुम्हारे सर से गया तुम खुद ही सुधर लोगे लोगो.

उपरोक्त नाग का वीडियो  आप ज़रूर देखें जिसमें एक मासूम चूजे को लोगों ने नाग के हवाले कर रखा है और मज़ा ले रहे हैं. नाग दंत हीन और विषहीन है.
पर देश को तमाशबीन हुक्मरानों नें ज़हरीले नागों के हवाले ही नहीं कर रखा है उन्हें गोद में लिए दूध भी पिला रहे हैं. दूध का बिल करोड़ों में आ रहा है जो आम लोगों की जेब से टेक्स के रूप में चुकना है. हमारा लोगों को मश्वरा है नागों से पहले नागों के रखवालों का  ज़ल्द इलाज़ करें आमीन. 
डॉ. सुभाष भदौरिया. ता.28/05/2011
  



2 टिप्‍पणियां:

  1. आपका कहना बिल्कुल सही है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या बात है वंदनाजी आप को हमारे ये तेवर भी पसन्द हैं.
    क्या करें इन दिनों लोगों में निराशा काफी व्याप्त है दूसरे तरफ नागों को मस्ती चढ़ी हुई हैं नागमाता आपकी दिल्ली की ही हैं ना ?
    अपना दिल्ली में ख़याल रखिए.
    बाबालोग उपवास करें नये गांधी भी करें पर अपनी फितरत ऐसी कहां.
    भाषा भी बहुत ज़ल्द बदलने वाली है लोग इंतज़ार करें.

    चोचले अब न सुहाते देखो.
    चूतिये लिस्ट थमाते देखो.

    और वंदनाजी लिस्ट में भी मिस्टेक हो गयी. पाकिस्तान का गोला कश्मीर की सीमा पे गिरता है इन निगहबानों की पतलून ओर धोती दिल्ली में गीली होती है.कैसे बुज़दिलों के हाथ देश की कमान है.

    उत्तर देंहटाएं