गुरुवार, 5 सितंबर 2013

मेरे दिल में हमेंशा ही तेरा मातम नहीं रहता.

ग़ज़ल

हमेशा एक सा दुनियाँ में ये मौसम नहीं रहता.
लड़ो गर ग़म से तो फिर एक दिन ये ग़म नहीं रहता.

मैं जूझूँगा अँधेरों से मैं चूमुँगा सितारों को
मेरे दिल में हमेंशा ही तेरा मातम नहीं रहता.

मैं दरिया हूँ, मैं सहरा हूँ, मैं मीठा हूँ, मैं ख़ारा हूँ,
इन्हीं वज़अ से कोई भी मेरा हमदम नहीं रहता.

हवायें  फेंक देती हैं कई पुख़्ता दरख़्तों कों,
हमेंशा हुक्मरानी पर कोई हाकि़म नहीं रहती.

यहाँ शोले भी रहते हैं, इन्हें समझो ये नादानो,
हमारी आँख का दीदा हमेशा नम नहीं रहता.

तअलुक में ज़रूरी हैं वफ़ादारी की ख़ुश्बू भी,
करें का क्या ऐसे रिश्तों को जहां कुछ दम नहीं रहता.

डॉ. सुभाष भदौरिया. गुजरात.

5 टिप्‍पणियां:

  1. हवायें फेंक देती हैं कई पुख़्ता दरख़्तों कों,
    हमेंशा हुक्मरानी पर कोई हाकि़म नहीं रहती.
    nice

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में शामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा {रविवार} 8/09/2013 को मैं रह गया अकेला ..... - हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल - अंकः003 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें। कृपया आप भी पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | सादर ....ललित चाहार

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय सुभाष भदौरिया जी मुझे आपकी गज़लें अछि लगती है .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (09.09.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीया शालिनीजी,प्रिय राजेश,ललितजी,नीरजजी आप सभी की हौसला अफ़्ज़ाई के लिए शुक्रगुज़ार हूँ मुहब्बत बनाये रखिये.आमीन.


    उत्तर देंहटाएं