रविवार, 24 मई 2020

पटरियों पे खिले हैं कमल क्या कहें.


पटरियों पे खिले हैं कमल क्या कहें.
                                                                       ग़ज़ल
संगेदिल आप हैं हाले दिल क्या कहें.
जब ग़ज़ल  ही नहीं तो ग़ज़ल क्या कहें.

सुनते आये थे कीचड़ में खिलते कमल,
पटरियों पे खिले हैं कमल क्या कहें.

आसमां पे बिठाये है वो ख़ास को,
आम सड़कों से भी बेदखल क्या कहें.

जो भी अमृत था सब देवता पी गये.
अपने हिस्से में छोड़ा गरल क्या कहें.

पहले थी ही बहुत ये कठिन ज़िंदगी,
और भी उसने कर दी सरल क्या कहें.

खोटे सिक्कों का इतना चलन हो गया,
छोड़िए अब असल की असल क्या कहें.

डॉ.सुभाष भदौरिया गुजरात ता.24-05-2019

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें